Intezaar Shayari in Hindi

Intezaar Shayari in Hindi




दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझसे मिलने के,
न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है।

Din Bhar Bhatakte Rahte Hain Armaan Tujhse Milne Ke,
Na Yeh Dil Thehrta Hai Na Tera Intezaar Rukta Hai.

वो तारों की तरह रात भर चमकते रहे,
हम चाँद से तन्हा सफ़र करते रहे,
वो तो बीते वक़्त थे उन्हें आना न था,
हम यूँ ही सारी रात करवट बदलते रहे।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Wo Taaro Ki Tarah Raat Bhar Chamkte Rahe,
Hum Chaand Se Tanha Safar Karte Rahe,
Wo To Beete Waqt The Unhein Aana Na Tha,
Hum Yoon Hi Saari Raat Karbat Badalte Rahe.

Intezaar Shayari in Hindi

ज़ख़्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें,
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें,
मर गए हम मगर खुली रही ये आँखें,
इससे ज्यादा उनका इंतज़ार क्या करें।

Jakhm Itne Gahare Hain Izhaar Kya Karen,
Hum Khud Nishana Ban Gaye Baar Kya Karen,
Mar Gaye Hum Magar Khuli Rahi Ye Aankhein,
Isse Jyada Unka Intezaar Kya Karen.

किन लफ्जों में लिखूँ मैं अपने इंतज़ार को तुम्हें,
बेजुबां है इश्क़ मेरा ढूंढ़ता है खामोशी से तुझे।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Kin Lafzo Mein Likhu Main Apne Intezaar Ko Tumhein,
Bejubaan Hai Ishq Mera Dhhoondta Hai Khamoshi Se Tujhe.

Intezaar Shayari with images

उल्फ़त के मारों से ना पूछो आलम इंतज़ार का,
पतझड़ सी है ज़िन्दगी और ख्याल है बहार का।

Ulfat Ke Maaron Se Na Poochho Aalam Intezar Ka,
Patjhad Si Hai Zindagi Aur Khayal Hai Bahaar Ka.

हमने ये शाम चिरागों से सजा रखी है,
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं,
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार,
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है।

Humne Ye Shaam Chirago Se Saja Rakhi Hai,
Aapke Intezar Me Palke Bichha Rakhi Hain,
Hawa Takra Rahi Hai Shama Se Baar Baar,
Aur Humne Shart In Hawaon Se Laga Rakhi Hai.

Shayari for intezaar

वो न आएगा हमें मालूम था इस शाम भी,
इंतज़ार उस का मगर कुछ सोच कर करते रहे।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Woh Na Aayega Humein Malum Tha Iss Shaam Bhi,
Intzaar Uska Magar Kuchh Soch Kar Karte Rahe.

एक लम्हे के लिए मेरी नजरों के सामने आजा,
एक मुद्दत से मैंने खुद को आईने में नहीं देखा।

Ek Lamhe Ke Liye Meri Najron Ke Saamne Aaja,
Ek Muddat Se Maine Khud Ko Ayine Mein Nahi Dekha.

 Shayari on intezaar

वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Wo Rukhsat Hui To Aankh Mila Kar Gayi,
Wo Kyun Gai Yeh Bata Kar Nahin Gayi,
Lagta Hai Bapis Abhi Laut Aayegi,
Wo Jaate Hue Chirag Bujha Kar Nahin Gayi,

intezaar shayari 2 line.

हालात कह रहे हैं मुलाकात नहीं मुमकिन,
उम्मीद कह रही है थोड़ा इंतज़ार कर।

Haalaat Kah Rahe Hain Mulakaat Nahi Mumkin,
Ummeed Kah Rahi Hai Thhoda Intezaar Kar.

मुझको अब तुझ से मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िन्दगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही,
बुझ गये अब उसके इंतज़ार के वो दीये,
कहीं आस-पास भी उस की आहट नहीं रही।
Mujhko Ab Tujh Se Mohabbat Nahi Rahi,
Ai Zindagi Teri Bhi Mujhe Jaroorat Nahi Rahi,
Bujh Gaye Ab Uske Intezaar Ke Wo Deeye,
Kahin Aas-Paas Bhi Uski Aahat Nahi Rahi.
तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं,
तेरा दीदार करने की चाह जगी है,
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता,
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में,
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Tere Intezar Me Yeh Najren Jhuki Hain,
Tera Didaar Karne Ki Chaah Jagi Hai,
Na Jaanu Tera Naam, Na Tera Pata,
Fir Bhi Na Jaane Kyun Is Pagal Dil Me,
Ek Ajab Si Bechaini Jagi Hai.

Intezaar shayari hindi 

आँखें रहेंगीं शाम-ओ-शहर मुन्तज़िर तेरी,
आँखों को सौंप देंगे तेरा इंतज़ार हम।

Aankhein Rahengi Shaam-o-Sehar Muntazir Teri,
Aankhon Ko Saunp Denge Tera Intezaar Hum.

ये इंतज़ार न ठहरा कोई बला ठहरी,
किसी की जान गई आपकी अदा ठहरी।

Ye Intezaar Na Thhehra Koi Bala Thhehri,
Kisi Ki Jaan Gayi Aapki Adaa Thhehri.

Intezaar Shayari Hindi for boyfriend

तड़प कर देखो किसी की चाहत में,
पता चलेगा इंतज़ार क्या होता है,
यूँ ही मिल जाता बिना कोई तड़पे तो,
कैसे पता चलता कि प्यार क्या होता है।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Tadap Kar Dekho Kisi Ki Chahat Me,
Pata Chalega Intezar Kya Hota Hai,
Yun Hi Mil Jata Bina Koi Tadpe To,
Kaise Pata Chalta Ki Pyar Kya Hota Hai.

आँखों के इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया,
चाहा था एक शख़्स को जाने किधर चला गया,
दिन की वो महफिलें गईं रातों के रतजगे गए,
कोई समेट कर मेरे शाम-ओ-सहर चला गया।

Aankhon Ke Intezaar Ka De Kar Hunar Chala Gaya,
Chaha Tha Ek Shakhs Ko Jaane Kidhar Chala Gaya,
Din Ki Woh Mehfilein Gayin Raaton Ke RatJage Gaye,
Koi Samet Kar Mere Shaam-o-Sahar Chala Gaya.

Intezaar Shayari with images

कब आ रहे हो मुलाकात के लिये,
हमने चाँद रोका है एक रात के लिये।

Kab Aa Rahe Ho Mulakat Ke Liye,
Humne Chaand Roka Hai Ek Raat Ke Liye.

तड़पती है आज भी रूह आधी रात को,
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को,
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे,
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को।

Tadapti Hai Aaj Bhi Rooh Aadhi Raat Ko,
Nikal Padte Hain Aankh Se Aansu Aadhi Raat Ko,
Intezar Me Tere Barsho Beet Gaye Sanam Mere,
Dil Ko Hai Aas Ayegi Tu Aadhi Raat Ko.

मेरे दिल की उम्मीदों का हौसला तो देखो,
इंतज़ार उसका है जिसे मेरा एहसास तक नहीं।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Mere Dil Ki Ummidon Ka Hausla To Dekho,
Intezaar Uska Hai Jise Mera Ehsaas Tak Nahi.

 Shayari on intezaar

राह चलते तू औरों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू थोड़ा पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में मैंने,
जरा इस दिल की बेताबी को भी तू जान ले।

Raah Chalte Tu Auron Ka Daman Thaam Le,
Magar Mere Pyar Ko Bhi Tu Thoda Pehchan Le,
Kitna Intezar Kiya Hai Tere Ishq Mein Maine,
Jara Iss Dil Ki Betaabi Ko Bhi Tu Jaan Le.

भले ही राह चलतों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।

Bhale Hi Raah Chalton Ka Daman Tham Le,
Magar Mere Pyar Ko Bhi Tu Pahchaan Le,
Kitna Intezar Kiya Hai Tere Intezar Me,
Jara Yeh Dil Ki Betabi Tu Bhi Jaan Le,

आधी से ज्यादा शबे-ग़म काट चुका हूँ,
अब भी अगर आ जाओ तो ये रात बड़ी है।

Intezaar shayari hindi 

Aadhi Se Jyada Shabe-Gham Kaat Chuka Hun,
Ab Bhi Agar Aa Jao To Yeh Raat Badi Hai.

खुद हैरान हूँ मैं
अपने सब्र का पैमाना देख कर,
तूने याद भी ना किया
और मैंने इंतज़ार नहीं छोड़ा।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Khud Hairan Hoon Main
Apne Sabr Ka Paimana Dekh Kar,
Tu Ne Yaad Bhi Na Kiya
Aur Maine Intezaar Nahi Chhoda.

खुद एक बार उसे यह एहसास दिला दे,
कितना इंतज़ार है ज़रा उसे बता दे,
हर पल देखते हैं रास्ता उसी का,
ना इंतज़ार करना पड़े, मुझे ऐसी नींद सुला दे।

Khud Ek Baar Use Ehsaas Dila De,
Kitna Intezar Hai Jara Use Bata De,
Har Pal Dekhte Hain Rasta Usi Ka,
Na Intezar Karna Pade, Mujhe Aisi Neend Sula De.

 Shayari on intezaar

जान देने का कहा मैंने तो हँसकर बोले,
तुम सलामत रहो हर रोज के मरने वाले,
आखिरी वक़्त भी पूरा न किया वादा-ए-वस्ल,
आप आते ही रहे मर गये मरने वाले।

Jaan Dene Ko Kaha Maine Toh HansKar Bole,
Tum Salamat Raho Har Roj Ke Marne Wale,
Aakhiri Waqt Bhi Pura Na Kiya Vada-e-Wasl,
Aap Aate Hi Rahe Mar Gaye Marne Wale.

इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा,
यादें कटती हैं ले ले कर नाम तेरा,
मुद्दत से बैठे हैं यह आस पाले,
कि कभी तो आएगा कोई पैगाम तेरा।

Intezaar Rehta Hai Har Shaam Tera,
Yaadein KatTi Hain Le Le Kar Naam Tera,
Muddat Se Baithe Hain Ye Aas Paale,
Ki Kabhi To Aayega Koyi Paigam Tera.

मोहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं,
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं,
मुद्दतें बीत जाती है किसी के इंतज़ार में,
यह सिर्फ पल दो पल का काम नहीं।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Intezaar Shayari in Hindi

Mohabbat Ka Imtihaan Aasan Nahin,
Pyar Sirf Paane Ka Naam Nahin,
Muddten Beet Jaati Hain Kisi Ke Intezar Me,
Yeh Sirf Pal Do Pal Ka Kaam Nahin.

बस यूँ ही उम्मीद दिलाते हैं ज़माने वाले,
कब लौट के आते हैं छोड़ कर जाने वाले।

Bas Yun Hi Umeed Dilate Hain Zamane Wale,
Kab Laut Ke Aate Hain Chhod Kar Jaane Wale.

intezaar shayari 2 line.

इक मैं कि इंतज़ार में घड़ियाँ गिना करूँ,
इक तुम कि मुझसे आँख चुराकर चले गये।

Ek Main Ki Intezaar Mein Ghadiyan Gina Karoon,
Ek Tum Ki Mujhse Aankh Churakar Chale Gaye.

फासला मिटा कर आपस में प्यार रखना,
हमारा यह रिश्ता हमेशा बरकरार रखना,
बिछड़ जाएं कभी आप से हम,
आँखों में हमेशा मेरा इंतज़ार रखना।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Fasla Mita Kar Aapas Me Pyar Rakhna,
Hamara Yeh Rishta Humesa Barkraar Rakhna,
Bichhad Jaaye Kabhi Aap Se Hum,
Aankhon Me Humesa Mera Intezar Rakhna.

intezaar shayari 2 line.

दिल जलाओ या दिए आँखों के दरवाज़े पर,
वक़्त से पहले तो आते नहीं आने वाले।

Dil Jalao Ya Diye Aankhon Ke Darwaze Par,
Waqt Se Pehle Toh Aate Nahi Aane Wale.

उसे भुला दे मगर इंतज़ार बाकी रख,
हिसाब साफ न कर कुछ हिसाब बाकी रख।
Intezaar-Shayari-in-Hindi

Usey Bhula De Magar Intezar Baaki Rakh,
Hisaab Saaf Na Kar Kuchh Hisaab Baaki Rakh.

उस नज़र को मत देखो,
जो आपको देखने से इनकार करती है,
दुनियां की भीड़ में उस नज़र को देखो,
जो सिर्फ आपका इंतजार करती है।

Uss Najar Ko Mat Dekho,
Jo Aapko Dekhne Se Inkar Karti Hain,
Duniya Ki Bheed Me Us Najar Ko Dekho,
Jo Sirf Aapka Intezar Karti Hain.

0 Comments: